Blog · Short Story · Uncategorized

Gold: Living the Empowered Dream

With the subtle hues and the tangerine skyline….the evening dressed up pretty. She pulled and pushed amongst the heaps of clothing, in search of the perfect dress. With gold on her mind, she was excited...a little nervous, and pretty hallucinated. She knew that she had worked hard to see this dream coming through and wanted… Continue reading Gold: Living the Empowered Dream

Advertisements
Uncategorized

आज  … दिन कुछ ख़ास है!

बूंदों की आहटों पे जब दिल मचलने लगे दिल के समंदरों में जब ख्वाब पलने लगे समझ लेना की आज  ... दिन कुछ ख़ास है!   पलकों  के झरोखे में से नींद ढलने लगे चंचल सी ये काली लटें, फिर घटाओं सी उड़ने लगे समझ लेना की आज  ... दिन कुछ ख़ास है!   जब… Continue reading आज  … दिन कुछ ख़ास है!

Hindi

तू है…और है भी नहीं !

नम हुईं ये पलकें जब , लफ़्ज़ों की यूँ आंधी चली, तू है …और है भी नहीं! तेरा साया है दीवारों पे... मगर, सूनापन है तेरे साथ में भी, तू उठ रहा …कभी बैठ रहा …कदमों से ये घर नाप रहा, तेरे क़दमों की आहट तो है पर मेरे हाथों में वो हाथ नहीं मैं… Continue reading तू है…और है भी नहीं !